Header Ads

Christmas Day Essay in Hindi | क्रिसमस डे पर निबंध Christmas Day History Information in Hindi

Christmas Day Essay in Hindi | क्रिसमस डे पर निबंध Christmas Day History Information in Hindi  :

नमस्कार दोस्तों , Christmas day essay in hindi , Christmas Day History in Hindi , Christmas Day पर निबंभ , क्रिसमस डे का त्यौहार क्यों मनाया जाता है , इन सभी की जानकारी आज हम इस पोस्ट में आप सभी के साथ share कर रहे है , शुरू करने से पहले आप सभी को New WhatsApp Status Site की तरफ से क्रिसमस डे की हार्दिक बधाई और शुभकामनाये | (Happy Christmas Day or Xmas Day in Advance).

क्रिसमस डे पूरी दुनिया में सर्वाधिक मनाया जाने वाला  त्योहारों में से एक है | यह इसाई धर्म के लोगो द्वारा मनाया जाता है | इस त्यौहार को क्रिस्चियन समुदाय के लोग पुरे उत्साह से मानते है | और गॉड इसाह मसीह का जन्म भी इसीदिन हुआ था |

क्रिसमस डे information इन हिंदी 

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है ? 25 December ko Christmas Day kyu Manaya Jata hai ? 

कुछ लोगों का मानना है कि प्रभु जीसस का जन्म 25 दिसंबर को नहीं हुआ था लेकिन ज्यादातर लोग यही मानते हैं कि प्रभु जीसस का जन्म 25 दिसंबर को हुआ था यही कारण है कि हम क्रिसमस मनाते हैं और इन्हीं की याद में क्रिसमस डे बनाया जाता है.

क्रिसमस जिसको दुसरे शब्दों में बड़ा दिन भी बोलते है. Christmas festival को ईसा मसीह या यीशु के जन्म दिवस की ख़ुशी मैं मनाया जाता है. क्रिसमस को हर साल 25 दिसम्बर को मनाया जाता है और इस दिन पूरा देश इस फेस्टिवल को काफी एन्जॉय करता है.इस त्योहार के कई दिनों पूर्व ही लोगों में उत्साह और उल्लास की झलक देखने को मिल जाती है । इस पावन दिन के अवसर पर सभी अपने घरों को नाना प्रकार के पुष्पों झालरों व तस्वीरों से सजाते हैं । बाजार व दुकानों में चहल-पहल देखते ही बनती है ।

यह भी देखे👉 : Happy New Year Animated GIF Images || Happy New Year Photos

Christmas Day Information in Hindi | Christmas Day Story in Hindi | क्रिसमस डे की कहानी (इतिहास)

क्रिसमस की कहानी आज से करीब 2000 साल पहले की है. बाइबल के अनुसार उस समय रोम का शासन होता था और लोगों पर काफी अत्याचार किए जाते थे. लोगों की पीड़ा को कम करने के लिए तथा लोगों को रोम के शासन से बचाने के लिए प्रभु  ने अपने बच्चे जीसस को धरती पर भेजा था.

प्रभु ने जीसस के जन्म के लिए वहां की एक कुंवारी कन्या Merry को चुना और प्रभु ने Merry के पास एक देवदूत को भेजा. देवदूत ने Merry के पास जाकर कहा कि तुम्हें प्रभु के पुत्र जीसस को जन्म देना है. देव
दूत ने आगे बताया कि आपका यह बेटा बड़ा होकर राजा बनेगा तथा लोगों पर हो रहे अत्याचारों को कम करेगा.

प्रभु के द्वारा भेजी गई दूत गैब्रियल , जोसफ के पास गई और उन्होंने कहा कि आपको Merry नाम की एक लड़की से शादी करनी है जो प्रभु के बच्चे को जन्म देगी.जिस दिन जीसस का जन्म होने वाला था उस समय Merry और जोसेफ बेथलेहम की ओर जा रहे थे. बेथलेहम में उस समय काफी भीड़ थी और रहने के लिए कहीं भी जगह नहीं थी. तब Merry और जोसफ उस रात एक अस्तबल (तबेले) में रात गुजारी. इसी रात जीसस का जन्म हुआ और इस दौरान आकाश में एक चमकता हुआ तारा दिखाई दिया जिससे लोगों को आभास हो गया कि उनके प्रभु ने धरती पर अवतार ले लिया है.

यह भी देखे👉 : Merry Christmas Status  ||  Christmas Day Animated GIF Images

क्रिसमस क्यों मनाते है -  Christmas Information In Hindi 


क्रिसमस का त्योहार कई चीजों के लिए मशहूर है. जैसे कि क्रिसमस ट्री, गिफ्ट और सांता क्लॉस.  इस दिन सांता क्लॉज बच्चों को गिफ्ट देता है और बच्चों की हरसंभव इच्छा पूरी करने का प्रयास करता है. क्रिसमस के दिन लोग अप

ने घरों की व गिरजाघरों की साफ सफाई करते है. घर, दुकान और गिरजाघर को लोग रंगीन कागजों और फूलों से सुंदर बनाते हैं.इस दिन क्रिसमस ट्री भी बनाया जाता है जिस पर रंग बिरंगे, बल्ब और खिलौने सजाए जाते हैं. इस दिन बच्चे बहुत खुश होते हैं क्योंकि उन्हें अच्छे-अच्छे गिफ्ट गिफ्ट मिलते है.  इस दिन लोग एक दूसरे को क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनाएं देते हैं.

1 . -क्रिसमस डे पर निबंध - Christmas Day Short Essay in Hindi 

क्रिसमस

'क्रिसमस' ईसाइयों का प्रसिद्द त्यौहार है। यह 25 दिसंबर को प्रति वर्ष सम्पूर्ण विश्व में धूमधाम से मनाया जाता है। क्रिसमस का त्यौहार ईसा मसीह के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। यह ईसाइयों का सबसे बड़ा और खुशी का त्यौहार है। इसे 'बड़ा दिन' भी कहा जाता है। 

क्रिसमस के त्यौहार की तैयारियां पहले से होने लगती हैं। क्रिसमस के दिन घरों की सफाई की जाती है एवं ईसाई लोग अपने घर को भलीभांति सजाते हैं। नए-नए कपड़े खरीदे जाते हैं। ईसाई लोग क्रिसमस के दिन विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाते हैं। बाजारों की रौनक बढ़ जाती है। घर और बाजार रंगीन रोशनियों से जगमगा उठते हैं।

क्रिसमस के दिन गिरिजाघरों में विशेष प्रार्थनाएं होती हैं एवं जगह-जगह प्रभु ईसा मसीह की झांकियां प्रस्तुत की जाती हैं। इस दिन घर के आंगन में क्रिसमस ट्री लगाया जाता है। क्रिसमस के त्यौहार में केक का विशेष महत्व है। इस दिन लोग एक-दूसरे को केक खिलाकर त्यौहार की बधाई देते हैं। सांताक्लाज का रूप धरकर व्यक्ति बच्चों को टॉफियां-उपहार आदि बांटता है।

यह भी देखे👉Merry Christmas Status  ||  Christmas Day Animated GIF Images

2 . - क्रिसमस डे पर निबंध Hindi में - Long Essay On Christmas Day in Hindi 


क्रिसमस ईसाई समुदाय का सबसे बड़ा त्योहार है । यह त्योहार हर वर्ष 25 दिसंबर के दिन मनाया जाता है । यह वही दिन था जब लगभग 2000 वर्ष पहले ईसा मसीह नामक एक महान संत का जन्म हुआ था । उन्हें ईसाई धर्म का जन्मदाता माना जाता है । उन्होंने मानव समुदाय को प्रेम और भाईचारे का संदेश दिया था ।

क्रिसमस का पर्व पूरी दुनिया में मनाया जाता है । विश्व के जिन देशों में ईसाई धर्मानुयायी रहते हैं, वे इस त्योहार को बहुत उत्साह से मनाते हैं । वे इस दिन चर्च में जाते हैं और विशेष प्रार्थना करते हैं । वे अपने प्यारे यीशु को याद करते हैं जिन्हें किसी समय सूली पर लटका दिया गया था । पर यीशु फिर से जी उठे थे । यह सचमुच एक बड़ा चमत्कार था । इस चमत्कार के पीछे जन-कल्याण की भावना थी । यह भावना थी कि दु:खी मानव को शांति और सुख पहुँचाया जाय । जिन लोगों ने उन्हें सूली पर चढ़ाया था, उनके लिए उन्होंने प्रभु से प्रार्थना की थी कि हे भगवान्! इन्हें क्षमा कर देना ये नहीं जानते कि ये क्या कर रहे हैं ।

ईसा मसीह को यीशु, जीसस क्राइस्ट आदि नाम से भी जाना जाता है । इनके चमत्कार एवं उपदेशों की कथाएँ बाइबिल में वर्णित हैं । इन्होंने लोगों को आपस में प्रेम सहित, मिल-जुलकर रहने की शिक्षा दी । इन्होंने कहा था कि सभी मनुष्य एक ही ईश्वर की संतान हैं, अत : किसी को पीड़ा न दो । इन्होंने अंधों को ओखें दीं, बहरों को कान दिए, लंगड़ों को भला-चंगा कर दिया । संसार के सभी पाप अपने ऊपर ले लिए और उनके

पुण्य बाँट दिए । जिन लोगों को इनकी बातें पसंद आई वे उनके शिष्य बन गए । कुछ लोग जो अहंकारी और अज्ञानी थे, वे उनसे चिढ़ गए और उन्हें फाँसी पर लटका दिया । आज सारा संसार उन्हें आदर की दृष्टि से देखता है ।

क्रिसमस का त्योहार खुशियाँ मनाने का त्योहार है । ईसाई कई दिन से इसकी तैयारी करते हैं । घर की साफ-सफाई होती है तथा घर सुसज्जित किए जाते हैं । घर में नए फर्नीचर खरीदे जाते हैं । क्रिसमस के दिन पहनने के लिए नए वस्त्र तैयार किए जाते हैं । दुकानों में केक और मिठाइयों के आर्डर दिए जाते हैं । घर में अतिथियों के आवागमन का सिलसिला आरंभ हो जाता है । बाजार सज जाते हैं । दिसंबर में कड़ाके की ठंड पड़ती है परंतु लोगों का उत्साह देखते ही बनता है ।

आखिर क्रिसमस का पावन दिन आ ही गया । घर में सुबह से ही चहल-पहल शुरू हो गई । नहा- धोकर चर्च जाने की तैयारी होने लगी । चर्च भी सजा हुआ था । वहाँ मोमबत्तियाँ जल रही थीं; लोग यीशु के सामने प्रार्थना कर रहे थे । पादरी विधिवत् पूजा-अनुष्ठान कर रहे थे । कहीं धार्मिक प्रवचन हो रहा था तो कहीं सामूहिक प्रार्थना हो रही थी । वेटिकन के पोप जनसमूह को धर्म और आस्था की बातें बता रहे थे । चर्च की घंटियाँ आज अधिक कर्णप्रिय लग रही थीं ।

घर में केक और पकवान बने । एक से बढ्‌कर एक स्वादिष्ट केक । किसी में गुलाब की खुशबू थी तो किसी में फलों की सुगंध । सब मजे लेकर खा रहे थे और मित्रों को खिला रहे थे । पड़ोसी चाहे किसी भी धर्म को माने, उनकी खुशी में शरीक हुए बिना न रह सके । सभी क्रिसमस ट्री के चारों ओर जमा हुआ । सजा हुआ क्रिसमस ट्री आकर्षक लग रहा था । यहाँ बिजली के झालर लटके थे और मोमबतियाँ जल रही थीं । बच्चे उत्साह से नाच-गा रहे थे । लोग एक-दूसरे को क्रिसमस की शुभकामनाएं दे रहे थे ।

बच्चे क्रिसमस पर अपने प्यारे सांताक्लाँज को बहुत याद करते हैं । लंबे बाल, सफेद दाढ़ी और रंगबिरंगे वस्त्र पहने सांताक्लॉज क्रिसमस पर जरूर आता है और बच्चों को टार्फियाँ, गुब्बारे, मिठाइयाँ, कपड़े, जूते आदि भाँति-भाँति के पदार्थ देता है । कई लोग इस दिन सांताक्लॉज बन जाते हैं और बच्चों में कुछ-न-कुछ बाँटते हैं । बच्चे खुश होकर इनका पीछा करते हैं । बहुत ही मनोरंजक दृश्य उपस्थित हो जाता है ।

इस तरह क्रिसमस का त्योहार लोगों को सबके साथ मिल-जुलकर रहने का संदेश देता है । ईसा मसीह कहते थे-दीन-दुखियों की सेवा संसार का सबसे बड़ा धर्म है । इसलिए जितना हो सके, दूसरों की मदद करो । देखा जाए तो यही संसार के अन्य सभी धर्मों का सार है । क्रिसमस के अवसर पर लोगों को ईसा मसीह के उपदेशों पर चलने का संकल्प लेना चाहिए ।

No comments